Category: Religion

सपने में स्‍त्री या लड़की देखने का क्‍या है मतलब

Know what it means to see a woman or girl in a dream: क्‍या है सपने में लड़की देखने का मतलब: सपने हमारे जीवन में बहुत महत्‍व रखते हैं और इसका मनोवैज्ञानिक कारण भी होता है। लेकिन ज्‍योतिष के लिहाज से...

‘माघ का महीना’ जिसका हर दिन पवित्र!

Every Day of Magh Month is Sacred: “माघ” ऐसा माह है जिसका हर दिन पवित्र हिन्दू पंचांग के अनुसार सभी महीनों में साल का ग्यारहवां महीना माघ मास का हिन्दूधर्म में विशेष महत्व होता है। यह महीना दान-पुण्य, धर्म-कर्म और त्याग...

श्रीराम की ये चार बातें, हर समस्या का हल हैं।

Life Management Tips By Lord Ram: Shri Ram ye Chaar Baatein, Har Samasya ka Haal भगवान श्रीराम त्रेतायुग में जन्में, श्रीहरि के अवतार थे। श्रीराम के जीवन से काफी कुछ सीखा जा सकता है। उन्होंने त्रेतायुग में जिस तरह की विषम...

जब श्री कृष्ण ने दिया राधा रानी को श्राप

Shri Krishan Ne Diya Tha Radhe Rani ko Shraap: श्री कृष्ण का राधा रानी को श्राप, कभी नहीं होगी संतान: “श्री” का अर्थ है “शक्ति” अर्थात “राधा जी” कृष्ण यदि शब्द हैं तो राधा अर्थ हैं। कृष्ण गीत हैं तो राधा...

शिवजी को नहीं चढ़ाना चाहिए शंख से जल, आखिर क्यों?

Why Lord Shiva is not offered water with shell शिवजी को शंख से जल क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए! भगवान शिव को औघड़दानी कहा जाता है। अगर भक्त मन से आराधना करे, तो बाबा भोलेनाथ प्रसन्न होकर उसकी सारी मनोकामनाएं पूरा करते...

भगवान शिव की तीन आंखें और हाथ में त्रिशूल का अर्थ क्या है?

Know The Significance of the third eye of Shiva and Trident: शिव की तीन आंखें और हाथ में त्रिशूल का अर्थ: भगवान शिव की तीसरी आंख को लेकर अक्सर लोग सवाल करते हैं। इसके बारे में कई कहानियां भी प्रचलित हैं।...

Shiv Chalisa Hindi – श्री शिव चालीसा

Shri Shiv Chalisa in Hindi: शिव चालीसा पाठ   ।।दोहा।। श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥ जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥ भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥ अंग...

Ram Chalisa in Hindi – श्री राम चालीसा

Hindi Lyrics of Lord Ram Chalisa: श्री राम चालीसा (Shri Ram Chalisa in Hindi) श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥ निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥ ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र...
error: Content is protected !!